जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है 'केजरीवाल' सरकार

Arvind Kejriwal 2020





दिल्ली चुनावो को लेकर एक बड़ी बात सामने आयी है। माना जा रहा है कि केजरीवाल सरकार भी कांग्रेस की तरह परिवारवाद की राजनीति पर अपने कदम बढ़ा रही है। दरअसल आप पार्टी ने  त्रिनगर से जितेंद्र सिंह को टिकट दिया था ,मगर आपत्ति किये जाने के बाद आप सरकार ने त्रिनगर से ही जितेंद्र की पत्नी प्रीति तोमर को विधायक का टिकट  दे दिया है अब त्रिनगर से जितेंद्र की जगह उनकी पत्नी चुनाव में लड़ेगी । जानकारी के मुताबिक जितेंद्र सिंह की डिग्री को जाँच के दौरान फर्ज़ी पाया गया है। 





जिस वजह से अबकी बार उनका टिकट काट दिया गया। वहीं प्रीति तोमर को टिकट मिलते ही उन्होंने  आज नामांकन भी कर दिया है। गौरतलब है कि 2015 में विधानसभा के चुनाव के बाद उन्हें त्रिनगर से जीत हासिल हुई थी जिसके  बाद उन्हें वेरिफिकेशन के दौरान उन्हें दस्तावेज जाली पाए गए थे। जिसके बाद उन्हें चुनावो को रद्द कर दिया था और उन्हें इस्तीफा भी देना पड़ा। काफी जाँच पड़ताल के पश्चात् उन्हें  2016 में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। 





पुलिस की कार्रवाई के पश्चात्  जितेंद्र ने ये कुबूल भी किया था कि उनकी फर्जी डिग्री बनवाने के उनके भाई ने उनका साथ दिया उन्ही की वजह से वो फर्जी डिग्री हासिल कर पाए।  बाद में पुलिस ने जितेंद्र को जमानत पर रिहा भी कर दिया था। लेकिन आप पार्टी ने ये सब जानते हुए भी जितेंद्र को टिकट देकर बहुत बड़ी भूल की है। आप की तरह की हरकत का पता चलते हुए  बीजेपी ने चुनाव आयोग में जितेंद्र के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा दी। 





बता दे कि  बीजेपी कि ओर से दायर  याचिका में दिल्ली हाई कोर्ट से कहा गया है कि जितेंद्र की डिग्री फर्जी पाए जाने के बाद भी दिल्ली सरकार ने उसे टिकट दिया।  याचिका दायर करने के दौरान बीजेपी प्रतिनिधिमंडल में विजय गोयल के अलावा हरदीप सिंह पुरी और हरीश खुराना शामिल थे। लेकिन वही आप पार्टी ने अपनी चालाकी से जितेंद्र का टिकट काटते हुए उनकी पत्नी को दिया ।





आप पार्टी के इस तरह के स्टंट को देखकर तो  यही सामने आता है कि आप पार्टी जितने के लिए एक अनपढ़ व्यक्ति को टिकट दे सकती है और अगर आप पार्टी को अपने चुनाव जितने के लिए वह अगर परिवारवाद की राजनीति भी अपनानी पड़े तो इसमें कोई हरज नहीं मानेगी । 


Post a Comment

और नया पुराने